Breaking News

कांग्रेस-AAP के कुल वोटों से भी BJP आगे! गठबंधन भी होता तो तय थी हार

दिल्ली की सातों लोकसभा सीटों पर बीजेपी को बंपर वोट मिलते दिखाई दे रहे हैं. अहम बात यह है कि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के कुल वोट मिलाकर भी बीजेपी को नहीं हरा पा रहे हैं. इससे साफ है यदि दिल्ली में कांग्रेस और ‘आप’ का गठबंधन भी हो जाता, तो भी बीजेपी को हरा पाना नामुमकिन था.

गठबंधन भी होता तो हार थी निश्चित
Congress-AAP's total votes also BJP ahead! If the coalition was also there
लोकसभा चुनाव के आए रुझानों के अनुसार दिल्ली की सातों लोकसभा सीटों पर बीजेपी को बंपर वोट मिलते दिखाई दे रहे हैं. अहम बात यह है कि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के कुल वोट मिलाकर भी बीजेपी को नहीं हरा पा रहे हैं. इससे साफ है यदि दिल्ली में कांग्रेस और 'आप' का गठबंधन भी हो जाता, तो भी बीजेपी को हरा पाना नामुमकिन था. बीजेपी को मिले वोटों से साफ जाहिर है कि दिल्ली की जनता दो दलों के बीच गठबंधन होता तो इसे बिल्कुल पसंद नहीं करती. 

चुनाव आयोग की वेबसाइट पर 1 बजकर 50 मिनट पर मौजूद आंकड़ों की मानें तो बीजेपी को 56.3% वोट मिला, तो वहीं दूसरे नंबर पर कांग्रेस को 22.2% वोट मिला, जबकि तीसरे नंबर के साथ आम आदमी पार्टी को 18.5% वोट मिला. शुरुआती रुझान से ही आम आदमी पार्टी पिछड़ती दिखाई दे रही है. अब सवाल उठता है कि क्या मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और सेलेब्रिटी चेहरों की तमाम कोशिशों के बावजूद 'आप' का प्रदर्शन काफी खराब रहा? 

सुबह 11 बजे तक दिल्ली की 7 लोकसभा सीटों में से सिर्फ 2 सीटों पर 'आप' दूसरे नंबर पर रही. नॉर्थ-वेस्ट दिल्ली से 'आप' प्रत्याशी गुगन सिंह और साउथ दिल्ली से राघव चड्ढा दूसरे नंबर पर रहे. इसके अलावा चांदनी चौक से पंकज गुप्ता, पूर्वी दिल्ली से आतिशी, नई दिल्ली से बृजेश गोयल, नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली से दिलीप पांडेय और वेस्ट दिल्ली से बलबीर जाखड़ तीसरे पर रहे. हालांकि बीच-बीच में बलबीर जाखड़ और कांग्रेस प्रत्याशी महाबल मिश्रा के बीच टक्कर दिखाई दी. दोनों आपस में दूसरे नंबर की फाइट में रहे. 

चुनाव जीतने के लिए 'आप' नेताओं ने काफी बड़ी रणनीति बनाई थी. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सभी लोकसभा क्षेत्रों के हर विधानसभा में जमकर प्रचार किया था. सोशल मीडिया से लेकर जमीन तक खूब प्रचार हुआ. अब सवाल उठता है कि पूर्ण राज्य का मुद्दा लोगों ने नकार दिया? हालांकि, इसका अहसास 'आप' नेतृत्व को पहले से हो गया था, यही वजह रही कि प्रचार अभियान के अंतिम दिनों में पूर्ण राज्य के मुद्दे से ध्यान हटाकर केंद्र सरकार को घेरने का प्रयास किया. दिल्ली में प्रचार हुआ कि केंद्र सरकार काम नहीं करने दे रही. इसके बावजूद दिल्ली की जनता ने 'आप' पर ज्यादा भरोसा नहीं किया. पार्टी का कोई उम्मीदवार बढ़त बनाते नहीं दिखाई दिया. 

कांग्रेस के साथ AAP की गठबंधन रणनीति फेल! 

चुनाव से पहले अरविंद केजरीवाल ने कांग्रेस के संग गठबंधन की तमाम कोशिशें कीं. कई मौकों पर उन्होंने कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से संपर्क किया. राहुल गांधी भी 4-3 के फॉर्म्यूले पर तैयार हो गए लेकिन, 'आप' नेताओं ने इसे अस्वीकार कर दिया. राजनीतिक जानकारों की माने तो 'आप' का कांग्रेस के गठबंधन करने की कवायद जनता को रास नहीं आई. वोटिंग के जरिए लोगों ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस दोनों को जवाब दिया है. रुझानों की माने तो लोकसभा चुनाव में 'आप' को करारी शिकस्त मिल रही है. अगले कुछ महीनों में दिल्ली विधानसभा के चुनाव होने हैं.( पिछले चुनाव में 67 सीटें जीतने वाली 'आप' के लिए अब बड़ी चुनौती होने वाली है.

No comments