Breaking News

ऑफ द रिकार्ड: तीन ‘सुनामी’ जनमत सर्वेक्षण से पार्टियां और मतदाता असमंजस में. Off the Record: Parties and voters in confusion by three 'Tsunami' poll

National ऑफ द रिकार्ड: तीन ‘सुनामी’ जनमत सर्वेक्षण से पार्टियां और मतदाता असमंजस में
नेशनल डेस्क: सभी 10 प्रमुख जनमत सर्वेक्षणों ने 2019 के लोकसभा चुनावों में एन.डी.ए. को बहुमत दिया है। 3 जनमत सर्वेक्षण (इंडिया टुडे एक्सिस, टुडेज चाणक्य, न्यूज 18) ने एन.डी.ए. को 336 से 368 के बीच सीटें दी हैं। अन्य 7 सर्वेक्षणों ने 236 और 306 के बीच सीटें दी हैं मगर इन 3 जनमत सर्वेक्षणों की करीबी जांच में बताया गया कि उन्होंने राज्य-दर-राज्य बड़े पैमाने पर काम किया। इन सर्वेक्षणों ने काफी हंगामा मचा रखा है। उदाहरण के तौर पर न्यूज 18 ने महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना को 48 में से 42-45 सीटें दी हैं लेकिन इंडिया टुडे एक्सिस ने इस गठबंधन को 4 सीटें कम दी हैं जबकि टुडेज चाणक्य ने गठबंधन को 38 सीटें दीं।

इन नंबरों में व्यापक अंतर से इन विश्लेषणों का ‘तमाशा’ साफ दिखाई दिया है। रोचक बात यह है कि टुडेज चाणक्य किसी के लिए भी अनजान है और कंपनी या एग्जिट पोल दिखाने वाले चैनल ने इस संबंध में कोई तर्क नहीं दिया। ई-मेल के जरिए जब संपर्क किया गया तो टुडेज चाणक्य ने कोई जवाब देने से इंकार कर दिया।

इंडिया टुडे एक्सिस के प्रदीप गुप्ता के जवाब को प्रकाश में लाने का प्रयास किया गया मगर उन्होंने भी अपने तथ्यों के बारे टी.वी. चैनल पर कोई तर्क नहीं दिया जिससे इस तीव्र उतार-चढ़ाव में खामोशी है। किसी ने भी जन-मत सर्वेक्षण कंपनी आई.पी.एस.ओ.एस. के चेहरे को नहीं देखा जिसने मुकेश अंबानी के न्यूज 18 टी.वी. नैटवर्क के लिए सर्वेक्षण किया। रोचक बात यह है कि राजीव शुक्ला का न्यूज 24 ग्रुप भी मुकेश अंबानी के करीब समझा जाता है। 

इन 3 सर्वेक्षणों को छोड़कर अन्य 7 सर्वेक्षणों में कहा गया कि एन.डी.ए. को केवल 277 से 306 के बीच सीटें मिल सकती हैं। उनका यह भी कहना है कि भाजपा अपने बलबूते पर बहुमत प्राप्त नहीं कर सकेगी। उत्तर प्रदेश जैसे महत्वपूर्ण राज्य में भी तीव्र मतभेद संख्या को लेकर दिखाई दिए। जहां इन 3 सर्वेक्षणों ने एन.डी.ए. को 80 में से 60-68 लोकसभा सीटें दीं वहीं 7 अन्य सर्वेक्षणों ने एन.डी.ए. के लिए 35 से 58 सीटें मिलने की बात कही है। राज्यों में सीटों के अंतर में इन 3 प्रमुख सर्वेक्षणों में उस समय अधिक अंतर दिखाई दिया जब ओडिशा का मामला आया। टुडेज चाणक्य ने ओडिशा में भाजपा को 14 सीटें दीं। इंडिया टुडे एक्सिस ने राज्य में भाजपा को शून्य सीट दी जबकि न्यूज 18 ने भाजपा को 6 से 8 सीटें दीं।

No comments